10+ Moral Stories For Childrens in Hindi Pdf | FREE Story PDF

Moral Stories For Childrens in Hindi Pdf: बच्चों के शिक्षा और मनोरंजन के लिए कहानियों का महत्व हमारे समाज में हमेशा से ही उच्च रहा है। हर बच्चे को शिक्षा के साथ-साथ मौलिक मूल्यों का भी संबंधित ज्ञान होना अत्यंत आवश्यक है। इसलिए, हिंदी भाषा में नैतिक कहानियों को सुलभ रूप में पहुंचाने के लिए एक पीडीएफ़ बुक का निर्माण करना शिक्षकों, माता-पिता को और समाज को बच्चों के विकास में मदद करेगा।

Moral Stories For Childrens in Hindi Pdf Overview

Pdf TitleMoral Stories For Children in Hindi
LanguageHindi
CategoryMotivation
Total Pages9
Pdf Size154 KB
Download LinkAvailable

नैतिक कहानियों का महत्व

नैतिक कहानियां बच्चों के शिक्षा में आदर्शों, सिद्धांतों, और सच्चाई के प्रति अवगति भरती हैं। ये कहानियां उन्हें सही और गलत के बीच अंतर को समझाने में मदद करती हैं, जिससे वे अपने जीवन में सही और ईमानदार निर्णय लेने में सक्षम होते हैं। नैतिक कहानियों के माध्यम से, बच्चे अधिक समझदार, सामाजिक, और उदार व्यक्तित्व विकसित करते हैं।

कहानीयों का संग्रह

हिंदी में नैतिक कहानियों का संग्रह पीडीएफ़ बुक के रूप में एकत्रित करने से बच्चों को अपने शिक्षा के लिए समय-समय पर इन्हें पढ़ने का अवसर मिलता है। इस पीडीएफ़ बुक में विभिन्न रूपांतरणों और विविधताओं से भरी नैतिक कहानियां होंगी, जो उन्हें एक मनोहर और शिक्षाप्रद यात्रा पर ले जाएंगी। इन कहानियों के माध्यम से बच्चे सहजीकरण और मनोविज्ञान के सिद्धांतों को भी सीखेंगे।

सरल भाषा में प्रस्तुति

बच्चों के लिए यह पीडीएफ़ बुक सरल भाषा में लिखी जाएगी ताकि उन्हें समझने में कोई कठिनाई न हो। कहानियों की भाषा संवेदनशील और रंगीन रहेगी, जो उन्हें खूबसूरत रूप से समझाएगी। हर कहानी के अंत में सीख भरे संदेश होंगे, जिन्हें आसानी से समझाया जाएगा।

NOTE – अगर आप बच्चों के लिए प्रेरणादायक कहानियाँ चाहते है तो आप नीचे दिए Download लिंक पर क्लिक करके Moral Stories for Children in Hindi PDF को FREE Download कर सकते है।

Moral Stories For Childrens in Hindi Pdf

click-here

1. कबूतर और चींटी की कहानी | Ant And The Dove Story in Hindi

नदी के किनारे एक बहुत ही अच्छा फल का पेड़ था। उस पेड़ पर एक कबूतर बैठा हुआ बड़े ही मस्ती से पेड़ पर लदे हुए फल को खा रहा था। तब अचानक तेज से एक हवा का झोंका आया। जिसके कारण एक चींटी नदी के पानी में जा गिरी। यह सब घटना कबूतर बड़ी बारीकी से देख रहा था।

तब कबूतर ने उस चींटी की मदद के लिए एक सूखे पेड़ के पत्ते को नदी में फेंका। जिसके बाद चींटी उस तैरते हुए पत्ते पर चढ़ गयी और नदी के किनारे जा पहुंची। इस प्रकार कबूतर ने चींटी की जान बचा ली। चींटी ने अंत में कबूतर को शुक्रिया कहा। इसके बाद कबूतर वहा से चला गया।

कुछ दिनों बाद एक शिकारी ने शिकार करने के लिए जंगल में एक लम्बा जाल बिछाया और उस जाल में कुछ दाने डाल दिए। उस दौरान चींटी उसी जाल के पास से होकर गुजर रही थी। उसी समय कबूतर उन दानों को चुगने के लिए वह आ गया। कबूतर उस जाल के नजदीक पहुंच गया।

उस समय चींटी ने कबूतर की जान बचाने के लिए शिकारी के पैर को जोर से काट लिया। शिकारी चींटी के काटने पर बहुत ही जोर से चिल्लाया। जिसके कारण कबूतर उस जाल में आने से पहले ही उस चीख के दर से वहा से उड़ गया और शिकारी का प्रयास विफल हो गया। इस प्रकार चींटी ने कबूतर की जान बचा ली।

2. किसान और सांप की कहानी 

सर्दियों का समय था। एक किसान अपने खेत से शाम को घर की और लोट रहा था। उस दौरान उसने रस्ते में एक साँप देखा, जो ठण्ड के मारे जम गया था। किसान बहुत ही दयालु था, उसने साँप जैसे बहुत ही खतरनाक जानवर को अपनी दयालुता का उदारहण देते हुए, उसे अपनी टोकरी में भर लिया और अपने घर लेके आ गया।

इसके बाद ठण्ड के कारण उसके ऊपर कुछ घास और सूखे पत्ते को डाल दिया। उसके बाद कुछ ही समय बाद सांप ठीक हो गया और उसने टोकरी से भर निकल गया और उसने किसान को काट लिया। जसिके कारण किसान की कुछ समय बाद मृत्यु हो गयी।

Moral :- कुछ लोग ऐसे होते हैं की जो अपने स्वभाव को कभी नहीं बदलते हैं, फिर चाहे हम उनके साथ कितना भी अच्छा व्यवहार करें। हमेशा उन लोगों से सावधान रहें और उनसे दूरी बनाए रखें जो केवल अपने फायदे के बारे में सोचते हैं।

3. भेड़िया और सारस की कहानी

एक बार एक भेड़िया एक जंगल में किसी मृत जानवर को खा रहा था। उस दौरान अचानक उसके गले में हड्डी का टुकड़ा फस गया। भेड़िया ने बहुत कोशिश की, लेकिन हड्डी को अपने गले से नहीं निकल पाया और बहुत ही परेशान हो गया।

तब अचानक उसकी नजर एक सारस पर पड़ी, जिसका मुँह लम्बा था। भेड़िया ने सारस से मदद के लिए कहा, जिसके बदले

सने सारस से कहा की वो उसकी मदद करे बदले में उसे वो उसका इनाम देगा।

पहले तो सारस घबराया की भेड़िये के मुँह में अपनी चोंच डालके निकलने से उसको कोई नुक्सान न हो पर भेड़िये के इनाम देने के लालच में उसने हाँ कर दी।

सारस ने जल्द ही हड्डी उसके गले से निकाल दी। हड्डी निकलते ही भेड़िया चलने लग पड़ा तो सारस ने कहा, मेरा इनाम? तो भेड़िये ने कहा की,” क्या यह काफी नहीं है कि मैंने तुम्हारा सिर को बिना काटे ही अपने मुँह से बाहर निकालने दिया, यही तुम्हारा इनाम है”।

नैतिक शिक्षा: जिसको कोई आत्मसम्मान नहीं है उसकी सहायता करने के लिए किसी पुरस्कार की अपेक्षा ना करें। स्वार्थी लोगों के साथ रहने से आपको किसी प्रकार की मदद नहीं मिलेगी।

4.लोमड़ी और बकरी की कहानी

एक बार एक लोमड़ी रात को जंगल में घूम रही थी की अचानक वो एक कुँए में जा गिरी। अब उसे समझ नहीं आ रहा था की वो करे तो क्या करे। इस लिए उसने सुबह तक का इंतज़ार करने का सोचा।

सुबह होते ही एक बकरी कुँए के पास से गुज़री और उसने लोमड़ी को देखा और कहा तुम कुँए में क्या कर रही हो ?

तो बकरी ने कहा की,” में यहाँ पानी पीने आयी हूँ और ये पानी आजतक का सबसे स्वादिष्ट पानी है,आओ तुम भी पी के देखो?” बकरी ने बिना सोचे ही कुँए में छलांग लगा दी।

थोड़ी देर पानी पीने के बाद बकरी ने बाहर जाने का सोचा तो देखा की वो वहां फंस चुकी है। अब लोमड़ी ने कहा की में तुम्हारे ऊपर चढ़ कर बाहर निकल जाता हूँ और किसी को मदद के लिए ले आऊंगा।

बेचारी भोली बकरी ने लोमड़ी की चाल नहीं समझी और बिना सोचे समझे हाँ कर दी।

अब लोमड़ी बाहर निकलते ही बकरी को बोलने लगी की,”अगर तुम इतनी भी समझदार होती तो कभी बिना समझे कुँए में नहीं आती और ऐसे नहीं फस्ती और लोमड़ी ये बोलके वहां से चली गयी।”

नैतिक शिक्षा: कोई भी निर्णय लेने से पहले सोचें। बिना सोचे समझे कोई फैसला ना लें।

5. शेर और चूहे की कहानी

एक बार एक शेर सो रहा होता है और एक चूहा उसके ऊपर चढ़ के उसकी नींद को भटका देता है।

शेर उसे गुस्से में पकड़ लेता है और उसे खाने लगता है पर चूहा उसे कहता है की, “आप अगर मुझे छोड़ दोगे तो में आपकी किसी दिन मदद जरूर करूँगा।”

यह सुनके शेर हँसता है और उसे छोड़ देता है।

कुछ दिन बाद कुछ शिकारी शेर को जाल में कैद कर लेते हैं और शेर ज़ोर ज़ोर से चिल्लाने लगता है उसकी आवाज़ चूहा पहचान लेता है और भागता हुआ उसके पास आता है और शेर के जाल को काट के शेर को आज़ाद कर देता है।

नैतिक शिक्षा: दया अपना इनाम ज़रूर लाती है, कोई इतना छोटा नहीं है कि यह वह मदद नहीं कर सकता।

Moral Stories For Childrens in Hindi Pdf की तरह अन्य Important Link :-

click-here

Join TelegramJoin Now
Back CategoryGet All PDF
Join On QouraJoin Now
Back To HomeClick Here

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top